Poem On Diwali / इस साल दिवाली कुछ इस तरह मनाना दोस्तों नफरत को भुलाकर दीप खुशियों के जलाना दोस्तों न रह जाये कोई गम.

This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply